Wednesday, June 27, 2007

शाम आज कुछ उदास है।

इस सन्नाती गर्म हवा मे
धीमी चलती मेरी स्वास है।
बीच गगन के बादल झांकें,
ये शाम आज कुछ उदास है।

कहे हांथो पर सोता गाल,
आज नही कोई आसपास है।
आंखों का चितकबरा दर्पण
शाम दिखती कुछ उदास है।

महक पुराने दिनों की चहकी,
करती भंग, ध्यान अनायास है।
रूखे हांथों से किताब पलटना,
शाम, निश्चय ही, कुछ उदास है।

चुप लब्जों पर, यार मेरे का
याद मुझे वो अति-परिहास है।
उदास शाम ये बैठ के सिसके,
इतना तो मुझको आभास है।

-मनव

(The evening is gloomy today)

In this warm wafting air
my breath pulsates tardily.
Inbetween the skys, peeks the clouds
This evening is gloomy today.

The chin resting on my hands
says there is nobody around today.
The spotted mirror in the eyes,
reflects the forlorn evening.

The smell of old days chirping
breaks my attention suddenly.
The rude turning of pages
tells the story of the sad evening.

On my dead lips, of my friends
I remember the excess-jesting.
The pitiful evening sits and cries
And I realise it very well.

2 comments:

abhas said...

इतना तो मुझको आभास है..... :)

finally got a system which can display hindi fonts... am in delhi right now.. and reaching tomorrow :)

मनीष अग्रवाल said...

I know what you are thinking, but it is not for you my friend :)